भारतीय रिजर्व बैंक ने गेहूं खरीद के लिए नगद ऋण बढ़ाकर की 20683 करोड़

पंजाब सरकार ने अप्रैल तक किसानों को 14053.61 करोड़ की अदायगी की

चंडीगढ़, 13 मई: पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरेन्द्र सिंह के निरंतर यत्नों से भारतीय रिजर्व बैंक ने शनिवार को राज्य की नगद हद ऋण (सीसीएल)बढ़ाकर के 20683 करोड़ रूपये कर दी है। इस से पहले पंजाब सरकार ने अब तक 14053.61 करोड़ रूपये की बड़ी राशि वर्तमान खरीद सीजन दौरान किसानो को अदा कर दी है।

मुख्यमंत्री ने खरीद ऐजेसियो को हिदायतें की है कि वह बकाया पड़ी सारी अदायगियों को फौरी तौर पर समय से निपटाने के लिए तुंरत आवश्यक कदम उठाये।

एक सरकारी प्रवक्ता ने बताया कि कैप्टन अमरेन्द्र सिंह द्वारा गेहूं की तुंरत व निव्घ्रि खरीद के लिए प्रगटाई वचनबद्धता के कारण ही पंजाब सरकार ने अब तक इस वर्ष की सबसे ज्यादा 14053.61 करोड़ की अदायगी की है जबकि पिछले वर्ष यह अदायगी अप्रैल महीने दौरान 5938.21 करोड़  और अप्रैल, 2015 दौरान 947.19 करोड़ थी।

सरकारी प्रवक्ता अनुसार रिजर्व बैंक ने पहले मंजूर की 17994.21 करोड़ रूपये का ऋण हद को पिछले 30 अप्रेैल, 2017 से ही आगे बढ़ाते हुये 2688.79 करोड़ रूपये की अतिरिक्त राशि को मई महीने की खरीद के लिए स्वीकृति दी है। आरबीआई ने बढ़ाई हुई क र्जा हद मुताबिक खुराकी खातों के स्टाक अनुसार मिलाने को यकीनी बनाने के लिए कहा है।

राज्य के वित्त विभाग के प्रमुख सचिव को लिखे पत्र में रिजर्व बैेंक ने कहा कि कर्जा हद में यह बढ़ोतरी गेहंू की मौजूदा खरीद सीजन के लिए आवश्यक अदायगी को ध्यान में रखते और भारतीय स्टेट बैंके द्वारा दिये भरोसे के मददे नजर किया गया है।

सरकारी प्रवक्ता अनुसार इस वर्ष गेहूं की अब तक 11808318 मीट्रिक टन खरीद हुई है जिस में से सरकारी एंजेसियों ने 11547340 मीट्रिक टन गेहूं खरीद है। इस में से 11141940 मीट्रिक टन गेहूं मंडियों में सफलतापूर्वक उठाई गई है जिस के साथ ही रबी सीजन दौरान खरीद कार्य निविघ्र और तेजी के साथ सम्पूणर््ा हुये है।