"दस्तान ए सरहिन्द-पंजाब के स्वर्णिम इतिहास को सच्ची श्रद्धांजलि

CHD August 06 2017, बाबा जोरावार सिंह, बाबा फतेह सिंह और माता गुज़री द्वारा फतेहगढ़ साहिब में बलिदान के स्मरणोत्सव  की एक कहानी जो आपका दिल में  गर्व और सम्मान की भावना भर देगी कुछ ऐसी सोच के साथ   निर्माता विमल चोपड़ा ने चंडीगढ़ में पंजाब के धार्मिक इतिहास पर आधारित फिल्म 'दस्तान ए  सरहिन्द' की घोषणा की। फिल्म में गुरप्रीत घुघी, योगराज सिंह, बी एन शर्मा, सरदार सोही , गुरमीत साजन और गुरप्रीत भंगू की  प्रमुख भूमिकाएं हैं।
 
दास्तान ए सरहिंद  लिखा गया है नवी  सिद्धू द्वारा और  मनप्रीत बराड़ इसे निर्देशित करेंगे  । यह विमल चोपड़ा, विक्की कालरा और नवी सिधु का एक सहयोगात्मक उत्पादन है, क्रिएटिव आइ फिल्म्स द्वारा प्रस्तुत किया जा रहा  है।
 
 नवी  सिद्धू, जिन्होंने लेखक, स्क्रीन प्ले और डायलॉग्स की कैप पहनी  है, ने कहा, "दस्तान ए  सरहिन्द हमारे  धर्म और मान्यताओं के प्रति समर्पण की कहानी है; हमारी विरासत का कितनी  मूल्यवान है, इसका एक अनुस्मारक ये है की गुरुओं की शिक्षाएं हमेशा  खून और पसीने में लिखी जाती हैं। एक फिल्म निर्माता के रूप में यह मेरा प्रामाणिक और उनकी  शहादत  के प्रति  ईमानदार रहने का प्रयास है। मुझे आशा है कि फिल्म दर्शकों को सही सन्देश देने में कामयाब रहेगी । "
 
फिल्म के निर्माता ने कहा, "फतेहगढ़ साहिब में शहीदी दिवस पर गुरुद्वारों में  कीर्तन और लंगरों की व्यवस्था होती है। लेकिन शायद ही कोई इन के पीछे  वास्तविक महत्व पर ध्यान देता है यह फिल्म हमें महत्वपूर्ण बलिदान के बारे में  हमारी सोच को संशोधित कर देगी। हमें यकीन है कि लोगों को बलिदान की कहानी और मानवता के लिए बिना शर्त त्याग प्रतिबद्धता की पूरी  जानकारी होगी व् इससे सभी को त्याग का महत्व महसूस हो जायेगा । "
 
अभिनेता योगराज सिंह ने कहा, "सरहन्द राष्ट्र के इतिहास में एक महत्त्वपूर्ण स्थान रखता है। साहिबजादों और माता गुर्जरी के  उल्लेख मात्र करने से कृतज्ञता और श्रद्धा की भावना आने लगती है । मुझे उम्मीद है कि यह फिल्म लोगों को इस महत्वपूर्ण कहानी से अवगत कराने के अपने उद्देश्य की पूर्ति कर पाएगी, और मैं परमात्मा का शुक्रगुजार हूँ जो यह स्वर्णिम मौका मेरी झोली में डाला है । "
 
मुख्य अभिनेता गुरप्रीत घुघी ने कहा, "मेरे लिए एक ऐसी फिल्म का हिस्सा बनना  गर्व की बात  है, जो पंजाब के स्वर्णिम इतिहास को सच्ची श्रद्धांजलि होगी । हम सब  इन कहानियों को अपने  माता-पिता और दादा दादी से बचपन में सुनते आये है। अब, मेरा मानना ​​है कि ये कहानियां हमारी अगली पीढ़ी तक बताने की हमारी भी जिम्मेदारी है। "
 
निर्देशक, मनप्रीत बराड़ ने कहा, मैं  पंजाबी सिनेमा के दिग्गजों को निर्देशित करने के अवसर मिलने पर धन्य हूँ , जो कि इस फिल्म में भरपूर  है जो हमारे गुरुओं की शिक्षाओं को दर्शाती है, मुझे आशा है कि हमारे प्रयासों से ये दुनिया भर में पंजाबी लोगों के दिलों में सदा  के लिए रहेंगी।
 
हालांकि, सारे प्रोड्यूसर्स , एक्टर्स  भी लॉन्च में मौजूद रहे । इस फिल्म को शिरोमणि गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी (एसजीपीसी) से पूर्ण समर्थन मिल रहा है और फिल्म की पूरी टीम उनका आभारी है। कास्ट और क्रू  कनाडा में फिल्म की शूटिंग जल्दी ही  शुरू करने के लिए तैयार हैं। दस्तान ए  सिरहिन्द को 2018 में रिलीज करने की उम्मीद है।