छात्रवृत्ति योजना की वार्षिक आय की शर्त को अढ़ाई लाख से बढ़ाकर 4 लाख

चंडीगढ़, 28 जनवरी 2018- हरियाणा के मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल ने आज प्रदेशवासियों को तोहफा देते हुए कई महत्वपूर्ण घोषणाएं की, जिसके तहत प्रदेश सरकार द्वारा तहसील स्तर पर अंत्योदय कार्यालय खोले जाएंगे, जहां पर विभिन्न योजनाओं की जानकारी के साथ-साथ ऑनलाईन फार्म भी भरे जाएंगे। सरकार द्वारा मेधावी छात्रवृत्ति योजना की वार्षिक आय की शर्त को अढ़ाई लाख से बढ़ाकर 4 लाख रुपए किया जाएगा तथा आउटसोर्सिंग भाग-1 और 2 में इस वर्ष से प्रथम चरण में 10 प्रतिशत आरक्षण का प्रावधान किया जाएगा, जिसे बाद में बढ़ाया जाएगा। 

    श्री मनोहर लाल आज कैथल में परिवहन मंत्री श्री कृष्ण लाल पंवार द्वारा आयोजित संत शिरोमणी गुरू रविदास की 641वीं जयंती के अवसर पर आयोजित राज्य स्तरीय समरसता दिवस समारोह में बतौर मुख्यातिथि विशाल रैली को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि जो बच्चे पढ़ाई के दौरान विपरित परिस्थितियों में विभिन्न स्कीमों के ज्ञान के अभाव में योजनाओं का लाभ नही उठा पाते तहसील स्तर पर खोले गए अंत्योदय कार्यालय ऐसे बच्चों के लिए वरदान सिद्ध होंगे तथा उनका भविष्य उज्ज्वल बनाने का मार्ग प्रशस्त करेंगे। मुख्यमंत्री ने कहा कि सरकार द्वारा अनुसूचित जाति की पांच श्रेणियों में बैकलॉग की 300 पदों की भर्ती की जा रही है तथा सरकार द्वारा यह प्रावधान किया जाएगा कि भविष्य में बैकलॉग को पूरा करते हुए भर्तियां निकाली जाएंगी। उन्होंने कहा कि अगले वर्ष से कांशी की यात्रा के लिए 5000 लोगों को मुफ्त रेलवे यात्रा का लाभ पहले आओ-पहले पाओ के आधार पर दिया जाएगा।
उन्होंने बताया कि गरीब लोगों के सामाजिक व आर्थिक उत्थान के लिए डीआरआई योजना के तहत अग्रिम ऋण की सुविधा उपलब्ध करवाई जाएगी। उन्होंने कहा कि विभिन्न बैंकों से सहयोग लेकर 200 करोड़ के ऋण बिना ब्याज के गरीब परिवारों को दिए जाएंगे, ताकि वे अपनी आजीविका का साधन जुटाकर जीवन बसर कर सकें। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री के पक्के मकानों से वंचित लोगों को मकान देने के सपने को साकार करने की दिशा में सरकार कार्य कर रही है। सरकार द्वारा सभी के लिए शिक्षा व स्वास्थ्य सुविधाएं उपलब्ध करवाने के लिए अनेक कदम उठाए गए हैं। प्रदेश के सभी लोगों को स्वास्थ्य बीमा योजना की सुविधा उपलब्ध करवाई जाएगी। 
उन्होंने कहा कि महान संत गुरू रविदास की जयंती के साथ-साथ लाला लाजपत राय को भी याद करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि उनका जन्म संयुक्त पंजाब में हुआ था, जिन्होंने आजादी के संघर्ष में भाग लिया था। ऐसे महापुरूषों के जीवन व बलिदान से हमे प्रेरणा मिलती है। मुख्यमंत्री ने कहा कि सरकार ने इन महान संतों को सम्मान देते हुए उनके पद चिन्हों पर चलते हुए जयंती सरकारी तौर पर मनाने का फैसला किया है। दीन दयाल उपाध्याय अंत्योदय के मंत्र को लेकर प्रदेश में सभी वर्गों का उत्थान सुनिश्चित किया जा रहा है। महान संतों की वाणी, संदेश और शिक्षाओं को सरकार ने सही मायनों में सार्थक किया है। संत रविदास ने अपने जीवन में भक्ति मार्ग तथा कर्म के मार्ग को प्राथमिकता दी। श्री कृष्ण ने भी भक्ति के साथ-साथ कर्म को महत्व दिया था। संत रविदास ने दयालुता का परिचय देते हुए पीडि़त समाज के उत्थान के लिए कार्य किया। उन्होंने समाज में फैली कुरीतियों को दूर करने के लिए लोगों में जागरूकता फैलाई। 
    मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल ने कहा कि पिछली सरकारों में दलितों और पिछड़े वर्गों पर जो अत्याचार हुए, उन्हें लोग आज तक भुले नही हैं। प्रदेश में गोहाना, दुलिना मिर्चपुर में दलितों पर हुए अत्याचारों को याद करके आज भी हम सिहर उठते हैं। उन्होंने उपस्थित लोगों को विश्वास दिलाया कि यह सरकार सभी वर्गों के हितों को सुरक्षित रखेगी तथा अपने दायित्व को पूरी तरह निभाते हुए उनके अधिकारों की समुचित रक्षा करेगी। प्रदेश में कानून का शासन कायम रखते हुए किसी भी व्यक्ति को दूसरे वर्गों के हितों को ठेस पहुंचाने की अनुमति नही दी जाएगी। सरकार सचेत होकर समाज में घट रही ऐसी सभी घटनाओं पर सजग है तथा प्रदेश के लोगों को पारदर्शी व भ्रष्टाचार मुक्त शासन देने के लिए हर संभव प्रयास करेगी।     मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेश सरकार ने पिछले तीन साल में पौने दो लाख लोगों को सरकारी व गैर सरकारी क्षेत्र में रोजगार उपलब्ध करवाया है।
    हरियाणा प्रदेश भाजपा के अध्यक्ष श्री सुभाष बराला ने कहा कि संत शिरोमणी रविदास जयंती, कबीर दास जयंती तथा डा. भीम राव अंबेडकर और वाल्मीकि जयंती को राज्य स्तर पर सरकारी तौर पर आयोजित करके इनकी शिक्षाओं को भावी पीढ़ी तक पहंचाने का कार्य किया है। सरकार ने संत महात्माओं की शिक्षाओं पर चलते हुए सभी वर्गों के कल्याण के लिए कार्य किया जा रहा है। सरकार द्वारा संत रविदास की जातिवाद मुक्त समाज की अवधारणा को साकार करने के लिए समाज में जातिवाद की प्रथा को समाप्त करने की दिशा में कार्य किया जा रहा है। संत रविदास ने भी बेटा-बेटी को समान रूप से अवसर देने की बात कही थी। सरकार द्वारा बेटा-बेटी को एक समान अवसर प्रदान किए जा रहे हैं तथा महिलाओं को सशक्त करने के लिए अनेक कदम उठाए गए हैं।
    परिवहन, आवास एवं कारागार मंत्री श्री कृष्ण लाल पंवार ने कहा कि मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल की सरकार ने न केवल संतों की जयंती सरकारी तौर पर मनाने का फैसला किया, बल्कि इसके लिए बकायदा अधिसूचना जारी करके पक्का काम किया है। मुख्यमंत्री मनोहर लाल के आईने में 36 बिरादरी एक समान दिखाई देती है। मुख्यमंत्री द्वारा सभी वर्गों के संपूर्ण कल्याण के लिए कार्य किया जा रहा है तथा सभी वर्गों के हित सुरक्षित हैं। उन्होंने समाज का आह्वान करते हुए कहा कि वे गांवों में भाईचारे को प्रबल करें तथा संत रविदास की शिक्षित व संगठित होकर आगे बढऩे की शिक्षा का अनुसरण करें। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी ने 2022 तक मकानों से वंचित लोगों को मकान देने का संकल्प लिया है। ये मकान डा. भीम राव अंबेडकर आवास योजना के तहत उपलब्ध करवाए जाएंगे। प्रदेश सरकार द्वारा अगले पांच वर्षों में 3 लाख परिवारों को आवास देने का संकल्प लिया है, साथ ही उन्होंने कहा कि इस योजना के तहत पात्र लोगों को ही ऐसे आवास उपलब्ध करवाए जाएंगे। प्रधानमंत्री द्वारा भीम एप शुरू करके बाबा साहिब भीम राव अंबेडकर को सच्ची श्रद्धांजलि दी है। मुख्यमंत्री द्वारा समाज को पूरा मान-सम्मान तथा प्रतिनिधित्व दिया है, जिसके लिए पूरा समाज मुख्यमंत्री का आभारी रहेगा।
    शिक्षा मंत्री श्री रामबिलास शर्मा ने कहा कि संत शिरोमणी रविदास हम सभी के महान गुरू थे, जिन्होंने हम सभी को सच्चाई के मार्ग पर चलकर सभी वर्गों के उत्थान का मार्ग दिखाया। ऐसे महान संतों को हम जीवन में अपना आदर्श मानकर जीवन को सफल बना सकते हैं। उन्होंने समाज के लोगों का आह्वान किया कि वे जाति न देखकर कर्म के आधार पर लोगों का चयन करें। सरकार द्वारा आगामी 4 फरवरी को भिवानी में भी गुरू रविदास जयंती मनाई जाएगी। उन्होंने कहा कि अगले 15 वर्षों में देश की तस्वीर व तकदीर बदल जाएगी। शिक्षा मंत्री ने कहा कि प्रदेश सरकार द्वारा किसानों के हित को मद्देनजर रखते हुए फसलों के नुकसान की भरपाई के लिए 2471 करोड़ रुपए का मुआवजा वितरित किया। 
    सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता राज्य मंत्री श्री कृष्ण बेदी ने संत शिरोमणी गुरू रविदास को श्रद्धांजलि देते हुए कहा कि आज हम इन महान संतों के जीवन से प्रेरणा लेकर सभी वर्गों के उत्थान की क्रांतिकारी योजनाएं क्रियान्वित कर रहे हैं, जिससे समाज के अंतिम व्यक्ति को लाभ मिला है। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल ने दलित समाज को पूरा मान-सम्मान दिया है। पूर्ववर्ती सरकारों ने कभी भी दलितों को मान-सम्मान नही दिया। उन्होंने उपस्थितगण का आह्वान किया कि संत शिरोमणी गुरू रविदास की शिक्षाओं का अनुसरण करें। 
    इस राज्य स्तरीय समरसता दिवस समारोह में लोकसभा सांसद रतन लाल कटारिया, विधायक कुलवंत बाजीगर, संतोष सारवान, सुनीता दुग्गल, राम अवतार वाल्मीकि ने भी अपने विचार रखे। इस मौके पर जन स्वास्थ्य अभियांत्रिकी राज्य मंत्री डा. बनवारी लाल, विधायक श्याम सिंह राणा, पवन सैनी, दिनेश कौशिक, महीपाल ढांडा, रोहिता रेवड़ी, ओएसडी अमरेंद्र सिंह, उपायुक्त सुनीता वर्मा, पुलिस अधीक्षक आस्था मोदी, प्रदेश भाजपा उपाध्यक्ष धर्मपाल शर्मा, सुखविंद्र कौर, अशोक गुर्जर ढांड, धर्मवीर मिर्जापुर, रणधीर गोलन, लीला राम, राव सुरेंद्र, बंता राम वाल्मीकि, कमलेश ढांडा, राजपाल तंवर, शैली मुंजाल, संजय भारद्वाज, रामपाल राणा आदि उपस्थित रहे।