फूड सेफ्टी विभाग में ऑनलाइन जांच और सैंपलिंग व्यवस्था से आयेगी पारदर्शिता - ब्रह्म महिन्द्रा

स्वास्थ्य मंत्री ने फूड सेफ्टी विभाग के अधिकारियों को 31 मार्च, 2018 तक सभी लाइसेंस / रजिस्ट्रेशन जारी करन े के दिए आदेश
 
चंडीगढ़, 9 मार्च: 2018,   फूड सेफ्टी विभाग में पारदर्शिता लाने के मंतव्य से आज स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री श्री ब्रह्म महिन्द्रा ने ऑनलाइन जांच और सैंपलिंग व्यवस्था की शुरुआत की है जिससे खाने पीने वाले पदार्थों की सैंपलिंग और टेस्टिंग की प्रक्रिया तेज़ी  से सम्पूर्ण हो सकेगी। इस मौके पर नामज़द अधिकारी (फूड सेफ्टी), सहायक कमिशनर(फूड) और फूड और ड्रग प्रशासन के सीनियर अधिकारी उपस्थित थे। 
   इस संबंधी अन्य जानकारी देते हुये श्री महिन्द्रा ने कहा कि सम्बन्धित अधिकारियों के लिए ज़रूरी किया गया है कि भोजन पदार्थों के मानक और सुरक्षा के लिए किये गये निरीक्षण प्रक्रिया निर्धारित समय में करके ऑनलाईन किया जाये। उन्होंने सीनियर अधिकारियों को आदेश देते हुये कहा कि पंजाब के जिन व्यापारियों या कारोबारियों ने फूड के लाईसेंस लेने के लिए अप्लाई किया हुआ है, उनके लबिंत पड़े लाइसेंस 31 मार्च, 2018 तक जारी कर दिए जाएं। उन्होंने यह भी कहा कि खाने -पीने वाले पदार्थ बनाने वाले कारोबारियों की कानूनी और नैतिक जि़म्मेदारी बनती है कि वह यकीनी बनाये कि उनकी तरफ से निर्मित भोजन पदार्थों से उपभोक्ताओंं को किसी किस्म की बीमारी न हो। उन्होंनें कहा कि भोजन सुरक्षा सीधे तौर पर राज्य के लोगों के स्वास्थ्य को प्रभावित करती है जिसके लिए भोजन पदार्थों के मानक से सम्बन्धित समस्याओं को कम समय में हल करने के लिए फूड सेफ्टी विभागों को विभिन्न उपकरण मुहैया करवाए जा रहे हैं।
श्री महिन्द्रा ने बताया कि पंजाब सरकार ने नामज़द अधिकारी और सहायक कमीशनरों को यह जरूरी किया है कि वह अपने जिलोंं में सैंपलिंग और टेस्टिंग के लिए ऑनलाईन जांच और सैंपलिंग व्यवस्था को लागू करें। उन्होंने कहा कि इस ऑनलाईन व्यवस्था द्वारा राज्य में निरीक्षण प्रक्रिया को यकीनी तौर पर कमी रहित और समय अनुसार करने के लिए फूड सेफ्टी कम्पलायंस वेरीफिकेशन प्लेटफार्म के तौर पर अपनी भूमिका अदा करेगा।
  स्वास्थ्य मंत्री ने बताया कि स्वास्थ्य विभाग द्वारा शुरू किया गया ऑनलाईन जांच और सैंपलिंग व्यवस्था कागज़ मुक्त और वातावरण अनुकूल होने साथ वेब बेसड रियल टाईम इंसपैक्शन के लिए भी कारगर है जिसका प्रयोग मोबाइल, टेबलेट या डेस्कटॉप द्वारा की जा रही है। इसमें फूड सैंपल और छापेमारी संबंधी सूचना पारदर्शी ढंग से रियल टाईम डिज़ीटलाईज़ाईज़ेन रिपोर्ट स्टेट हैडक्वाटर को ऑनलाइन मिल जायेगी। इसमें विशेष तौर पर फिजिकल वैरीफिकेशन के लिए जियो -टैगिंग, टाईम फ्ऱेम इंसपैक्शन और रियल टाईम वैरीफिकेशन की सुविधा उपलब्ध करवाई गई है। 
इस मौके पर  डायरैक्टर स्वास्थ्य सेवाएं डा. जसपाल कौर, फूड एंड ड्रग एडमिनिस्ट्रेशन के नोडल अधिकारी डा. अमृतपाल वडि़ंग, एफएसएसएआई के ज्वाईंट डायरैक्टर श्री प्रवीन, डिप्टी डायरैक्टर श्री पंकज राय, नयी दिल्ली की हैड आफ प्रोग्राम दीप्ति गुलाटी, आईआईएचएमआर, जयपुर की प्रोजैक्ट मैनेजर श्रीमती रंजीता भी मौजूद थी।