पवन बंसल का होगा विरोध, नवजोत कौर टिकट की दौड़ में आगे

नवजोत कौर चंडीगढ़ के कई नेताओं से सम्पर्क में
 
लोकसभा चुनाव-2019 में टिकट को लेकर में घमासान 
 
कुमारएम 
 
चंडीगढ़। लोकसभा चुनाव-2019 में टिकट को लेकर चंडीगढ़ कांग्रेस पार्टी के अंदर घमासान पर घमासान जारी है। टिकट की दौड़ में नवजोत सिंह सिद्धू की पत्नी नवजोत कौर का नाम जुड़ जाने से पार्टी में और भी उथल-पुथल शुरू हो गई है। बताया जाता है कि टिकट के रेस में नवजोत सबसे आगे चल रही है। इसको लेकर जल्द ही एक प्रेस कांफ्रेंस होने वाला है, जिसमें पवन बंसल को टिकट देने का खुला विरोध होगा और स्थानीय किसी महिला को उम्मीदवार बनाने के लिए पार्टी की महिलाएं मांग करेगी। शहर की एक दबंग महिला नेता बसों को भरकर कांग्रेस के राष्टÑीय अध्यक्ष राहुल गांधी से मिलने के लिए बहुत जल्द दिल्ली जाने वाली हैं। अब तक शहर से चुनाव लड़ने के लिए उम्मीदवारी की दौड़ में पवन कुमार बंसल, मनीष तिवारी, पूनम शर्मा और अब नवजोत कौर का नाम आ रहा है।
 
नाम उजागगर न करते हुए कांग्रेस की एक महिला नेता ने कहा कि भाजपा व आम आदमी पार्टी में 33 प्रतिशत महिलाओं को लोकसभा चुनाव में बतौर उम्मीदवार बनाकर उतारा जा रहा है। ऐसे में कांग्रेस को भी 33 प्रतिशत महिलाओं को टिकट देकर चुनाव मैदान में उताराना चाहिए। वहीं चंडीगढ़ लोकसभा से बाहर की बजाय स्थानीय महिला कार्यकर्ताओं में से किसी एक को टिकट दिया जाए। इस महिला नेता का कहना है कि पार्टी ने इस बार पवन बंसल को टिकट देने की जरा भी भूल की तो पार्टी राजनीतिक आत्महत्या करने जैसी बात होगी। इसी महिला नेता ने उजागर करते हुए कहा कि शहर में कांग्रेस की कई महिला नेता जैसे पूर्व मेयर व पूर्व महिला कांग्रेस अध्यक्ष पूनम शर्मा, अनीता शर्मा, पूर्व महिला कांग्रेस अध्यक्ष मिनाक्षी चौधरी, पूर्व मेयर कमलेश, पूर्व मेयर व पूर्व महिला कांग्रेस अध्यक्ष ललित जोशी हैं, जिसे लोकसभा चुनाव 2019 में उम्मीदवार बनाया जाना चाहिए। 
 
एक सवाल पर इस महिला नेता ने गुस्सा प्रकट करते हुए इशारों ही इशारों में कहा कि अब आउट डेटेड हो चुके नेता और छूटे हुए कारतूस की बीबी ने कहा कि उसे जरूरत से ज्यादा चीजें मिल चुकी है। इसलिए अब ज्यादा न बोलें और चुप रहें। इस पर इस महिला नेता ने अपनी तरह की भाषा में छूटे हुए कारतूस व आउट डेटेड की बीबी से पूछा है कि उसकी कांग्रेस पार्टी में क्या हैसियत है जो वो किसी को कुछ देकर किसी पर अहसान जता रही है। हालाँकि छूटे हुए कारतूस और आउटडेटेड कौन नेता बीबी है नहीं बताया।   
 
वहीं दूसरी ओर दावा किया जा रहा है कि नवजोत सिंह की पत्नी नवजोत कौर चंडीगढ़ के कई भाजपा और कांग्रेस के कई नेताओं से सम्पर्क में हैं। फ़िलहाल इससे लगता कि इस बार भी पवन बंसल के लिए राह आसान नहीं है। एक बंसल का फिर से जोरदार विरोध होगा। ध्यान कि 2014 में एचएस लकी ने पवन बंसल की उम्मदवारी का विरोध किया था और बंसल की 70 हजार वोटों से हार हुई थी।